NGO Registration
NGO Registration
NGO Jobs
NGO Jobs
Our Facebook Page
राज्यवार एनजीओ

क्या कोई सरकारी कर्मचारी या अधिकारी गैर सरकारी संगठन का सदस्य हो सकता है?

हां, सरकारी कर्मचारी या सरकारी अधिकारी गैर लाभ संगठन / गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के सदस्य, संस्थापक, ट्रस्टी या निदेशक बन सकते हैं। कई सरकारी कर्मचारी और अधिकारी एनजीओ के संस्थापक और सदस्य हैं। कोई भी सरकारी कर्मचारी एनजीओ का सदस्य कैसे और क्यों हो, इस प्रश्न का सही अर्थ जानने के लिए आपको यह पता होना जरुरी है कि एनजीओ होता क्या है. आपको “एनजीओ” का अर्थ और इसे बनाने/संचालित करने का उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए। यह जानने के लिए यहां देखें कि – एनजीओ क्या है?

गैर सरकारी संगठन (NGO) व्यक्तियों का एक समूह या संगठन है जो समाज के कल्याण, सामाजिक विकास, समाज के व्यक्तियों के जीवन स्तर में सुधार के कार्य बिना व्यक्तिगत लाभ लिए या व्यक्तिगत लाभ की अपेक्षा के बिना काम करता है। सरकार या कोई प्राधिकरण किसके लिए होते है? सबके कल्याण और विकास के लिए. सरकार या शासन जिसके लिये सक्षम और अधिकृत है इसी उद्देश्य के लिए, समाज में सभी के कल्याण और विकास के लिये नितियाँ बनाकर सरकार उन्हें लागू करती है; अधिक स्पष्ट रूप से कहा जाय तो सभी के कल्याण के लिए है और / या उससे से भी परे सरकार का कार्य होता है. इसलिए सरकारी कर्मचारी या अधिकारी के रूप में सरकार में कार्यरत और जुड़े व्यक्ति सामाजिक कल्याण, सामाजिक विकास के लिए काम कर सकते हैं और एनजीओ या सार्वजनिक प्रयासों के माध्यम से सरकारी नीतियों को लागू करने या नई नीतियां बनाने या सामाजिक कल्याण और राष्ट्र के समाज के सदस्योंके विकास के लिए किसी भी संगठन के सदस्य रहकर, विभिन्न संगठनों से जुड़कर या उनके सदस्य/सहयोगी के रूप में कार्य कर सकते है. समाज सेवा के कार्य संस्थान बिना पंजीकरण करवाए स्वतंत्र रूप से या संस्था पंजिकृत करके उस गैर-लाभकारी गैर सरकारी संगठन/संस्थान या कई संगठनों/संस्थानों के सदस्य रहकर कर सकते हैं। कई सरकारी कर्मचारी / अधिकारी संगठन को बनाते है, रजिस्टर करवाते हैं और वे उस गैर लाभकारी संगठन (एनजीओ) के सदस्य या पदाधिकारी के रूप में काम करते हैं।
इस प्रकार एनजीओ उसी उद्देश्य के लिए काम करता है और समाज सेवा के उद्देश्य उपयोग कते हैं  जो उद्देश्य सरकार के भी होते है, लेकिन  गैर सरकारी संगठन के रूप में करते है तो इनको गैर सरकारी संतान (NGO) कहते है।

सरकारी कर्मचारी कोई लाभकारी काम किये बिना और गैर लाभकारी कार्य के लिए एनजीओ के सदस्य हो सकते हैं

इसलिए यह स्पष्ट तथ्य यह है कि सरकारी कर्मचारी एनजीओ के सदस्य और संयोजक हो सकते हैं; वे समाज के कल्याण और विकास के लिए काम कर सकते हैं, देश में और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर (अगर कोई कानूनी मापदंड लागू नहीं हो तो)  बिना लाभ या निजी धन की अपेक्षा रखे और लाभ प्राप्त करने का इरादा रखे बिना समाज सेवा का काम कर सकते है.

कोई भी सरकारी कर्मचारी सामाजिक कार्य कर सकते हैं, लेकिन कोई अन्य नौकरी या व्यवसाय नहीं कर सकते.

किसी भी सरकारी कर्मचारी, आधिकारिक या अर्ध सरकारी कर्मचारी या सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारी एनजीओ के सदस्य हो सकते है, लेकिन वह गैर सरकारी संगठन से किसी भी प्रकार का वेतन या कोई लाभ नहीं ले सकता है। सरकारी कर्मचारी सामाजिक कार्य के लिए काम कर रहे हैं या उनके सहयोगी सामाजिक कल्याण के उद्देश्य के लिए काम कर रहे हैं तो वे इस प्रकार के काम के लिए एनजीओ से परिवहन और अन्य खर्च ले सकते हैं जो लाभ या वेतन के दायरे में नहीं आते हों।

भारतीय संविधान के अनुसार यह भारतीय नागरिकों का मौलिक अधिकार है कि कोई भी व्यक्ति किसी भी वेतन या लाभ के बिना किसी भी व्यक्ति को सामाजिक कार्य के रूप में काम करने के लिए स्वयं को प्रतिबद्ध कर सकता है, चाहे वह नागरिक साधारण नागरिक हो या सरकारी कर्मचारी हो।

क्या किसी निजी कंपनी का कोई कर्मचारी या निदेशक गैर सरकारी संगठन का सदस्य हो सकता है?

हाँ, हो सकता है. बिना लाभ और वेतन के कोई भी व्यक्ति किसी कंपनी का कर्मचारी या निदेशक हो तो भी वह एनजीओ के सदस्य के रूप में काम कर सकता है, जुड़ सकता है. अगर निजी कंपनी की यह शर्त नहीं है कि उसका कर्मचारी किसी भी अन्य समूह या व्यक्ति या संगठन से निजी लाभ या वेतन के हिस्से से आय नहीं ले सकता है, तो वह कर्मचारी गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के सदस्य हो सकता हैं और एनजीओ से वेतन या परामर्श शुल्क भी नहीं ले सकता हैं। अगर कंपनी की ऐसी कोई शर्त नाहिंन है तो वह कर्मचारी एनजीओ से भी वेतन या कांसुतान्च्य फीस ले सकता है. लेकिन बिना किसी वेतन या व्यक्तिगत लाभ के किसी भी कर्मचारी या निदेशक गैर-सरकारी संगठन के सदस्य / संस्थापक हो सकते हैं समाज सेवा के लिए कानूनन किसी कंपनी से अनुमति की भी कोई आवश्यकता नहीं रहती है। सदस्य या किसी भी व्यक्ति के सहयोगी के रूप में सामाजिक कार्य या सामाजिक कल्याणकारी कार्य के लिए कोई प्रतिबंध या प्रावधान या प्रतिबंध नहीं है. किसी भी निजी या सरकारी संगठन से कर्मचारी या सहयोगी के रूप में है कार्यरत है तो वे अपनी ड्यूटी के कार्यकाल के अलावा या अवकाश के दिन कार्य कर सकते हैं।

एनजीओ को किसी भी विवादित कार्य, गैर कानूनी कार्य में शामिल नहीं होना चाहिए और सरकार या राष्ट्र विरोधी नीतियों, कार्य या गतिविधि के खिलाफ नहीं होना चाहिए।

कई संगठन सरकारी नीतियों को चुनौती देने के लिए नीतियों को लागू करने, नीतियों को बदलने, सरकारी नीतियों में परिवर्तन करने, लॉबिंग और वकालत के रूप में काम करते हैं। इसलिए जो लोग कर्मचारी के रूप में सरकार से जुड़े हुए हैं उन्हें स्पष्ट करना होगा वे गतिविधियों जो उस गैर-सरकारी संगठन द्वारा की जा रही है और जिसे वे सदस्य या सहयोगी के रूप में कर रहे हैं वे सरकार की गतिविधियों खिलाफ या कानून के दायरे के बहार तो नहीं हैं। यह स्पष्ट है कि किसी भी सरकारी विभाग या प्राधिकरण द्वारा किसी भी कानून और सामाजिक विरोधी कार्य करने की अनुमति नहीं दी गई है। जो कर्मचारी या व्यक्ति गोपनीयता के दायरे वाले कार्यक्षेत्र में आते है, गोपनीयता का हिस्सा है और प्रोटोकॉल के दायरे/हिस्से में संबंधित व्यक्तियों और कर्मचारियों को भी अपनी जिम्मेदारियों के अनुसार क्या सही है, इसका विश्लेषण करने के बाद इस बारे में निर्णय करके ही किसी दिशा में कदम रखना होता है।

आप केन्द्रीय सिविल सेवा (कंडक्ट) नियम, 1 9 64, नियम 15 (2) के अनुसार भारत में  सरकार के निम्नलिखित नियमों की जांच कर सकते हैं:-

केंद्रीय सिविल सेवाएं (आचरण) नियमावली 1964 नियम 15 (2) निम्नानुसार है:
केंद्रीय सिविल सेवाएं (आचरण) नियमावली 1964 के नियम 15 (2 )(घ) के अनुसार सरकारी कर्मचारी सरकार की पूर्वानुमति के बिना ही ऐसी साहित्यिक, वैज्ञानिक अथवा धर्मार्थ सोसायटी अथवा इसी प्रकार के क्लब या संगठन जो सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 या तत्समय लागू किसी नियम के अधीन पंजीकृत हो पंजीकरण, प्रवर्धन, प्रबंधन में भाग ले सकता है। (इसमें निर्वाचन पद पर रहना शामिल नहीं है।) .
खेल संस्कृति या मनोरंजन उद्देश्य जैसे संगठनों के लिए निर्वाचन पद पर बने रहने पर भी कोई रोक नहीं है। बस नियम में ये प्रावधान है निर्वाचन पद के लिए सरकार से परमिशन लेनी होगी।
कहने का तातपर्य ये है कि कोई भी सरकारी कर्मचारी एनजीओ रजिस्टर करवा सकता है इसके लिए कोई रोक नहीं है।
बस ये ध्यान रहे कि उसकी सरकारी ड्यूटी में बाधा न आये और वो कोई भी ऐसा कार्य गतिविधि न करे जो सरकार के विरूद्ध जाती हो।

नियम 15 (2) निम्नानुसार है:

“(2) एक सरकारी कर्मचारी, सरकार की पूर्व मंजूरी लिए बिना,
(ए) एक सामाजिक या धर्मार्थ प्रकृति का अवैतनिक कार्य कर सकता है, या
(बी) एक साहित्यिक, कलात्मक या वैज्ञानिक चरित्र का सामयिक (प्रासंगिक) काम कर सकता है, या
(सी) एक शौकिया के रूप में खेल गतिविधियों में भाग लेता हैं, या
(डी) एक साहित्यिक, वैज्ञानिक या धर्मार्थ समाजिक या किसी क्लब या इसी तरह के संगठन के पंजीकरण, प्रोमोशन या प्रबंधन (एक वैकल्पिक कार्यालय के आयोजन को शामिल नहीं करना) में हिस्सा लेना, जो उद्देश्य या वस्तुओं का खेल के प्रचार से संबंधित है, सांस्कृतिक या मनोरंजक गतिविधियों, सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 (1860 का 21), या लागू होने वाले समय के लिए किसी भी अन्य कानून के तहत पंजीकृत है.

सभी राज्य सरकार इस नियम का पालन करते हैं।

You can check and read in English from: Can any Government Employee or Officer be the member of NGO?

NGO Consultancy
NGO Consultancy
NGOs India
NGOs India
एनजीओ समाचार
NGO News
NGOs India on Twitter